टीस

ज्योत्सना कपिल

टीस
(248)
पाठक संख्या − 8321
पढ़िए
Dinesh Gilra
अच्छी कहानी
डॉ. इला अग्रवाल
होता है ये होता है पर क्यों?????? काश कि ना होता ऐसा प्यार... जिसका नहीं कोई पार ना ही एक हो पाने का आधार
Mnu Vrk
pyari story.... touchy.... same
Manu Prabhakar
कहानी हॄदयस्पर्शी मेडम। कहीँ ना कहीं मैंने स्वयं को महसूस किया ।👌👌
रिप्लाय
Archana Varshney
बहुत सुंदर
Ajit
Jyotsana ji , aapne to bhawanao ko shabdon me sahi dhala hai . Umeed hai aage bhi esi hi bhawanao ka sangharsh padhne ko milega . Dhanyawad !
Mohit Khare
sachha pyar.. rona aa gaya
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.