टिटलागढ़ की एक रात

विजय कुमार सपत्ती

टिटलागढ़ की एक रात
(1,001)
पाठक संख्या − 94399
पढ़िए

सारांश

बात कई साल पुरानी है .जब मेरी नयी नयी नौकरी नागपुर में लगी थी .मैं एक सेल्समेन था और मुझे बहुत टूर करना पड़ता था. मार्च महीने के दिन थे . दोपहर का वक़्त था और तेज गर्मी से मेरा बुरा हाल था . बुरा हो ...
Isha Moses
Kya ye haqiqat ki Kahani h jo bhi h ek waqt aisa laga jaise mai v is ghatna me shamil Hun ...baithe dilchashp k apki कहानी
अरुण गौड़
बहुत ही शानदार कहानी, सर इस कहानी की तारिफ में जितना कहा जाये वो कम है, you are one of the best writer on pratilipi 👍
Ibrahim shaikh
wah kya kahani likhi he aap ne
aman singh
nice story...real hai ya mangarhat ???
Soumya Misra
गज्जब कहानी दिमाग सुन्न हो गया बेहतरीन|
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.