टिटलागढ़ की एक रात

विजय कुमार सपत्ती

टिटलागढ़ की एक रात
(954)
पाठक संख्या − 92293
पढ़िए

सारांश

बात कई साल पुरानी है .जब मेरी नयी नयी नौकरी नागपुर में लगी थी .मैं एक सेल्समेन था और मुझे बहुत टूर करना पड़ता था. मार्च महीने के दिन थे . दोपहर का वक़्त था और तेज गर्मी से मेरा बुरा हाल था . बुरा हो ...
manjul shukla
bahut hi acchi horror story thi. very nice
Sandeep Verma Verma
super khani akhir tak badhe rakhti ha I
Vijay Hiralal
Sir, sales walo ko mat darao. bichare aadha samay ghar se bahar hi hote hai.
deipak kumar
अद्भुत, अविस्मरणीय
सरोज वर्मा
बहुत ही अच्छी कहानी है।।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.