जीवन से भरी तेरी आँखें

मीनू विश्वास

जीवन से भरी तेरी आँखें
(471)
पाठक संख्या − 37541
पढ़िए

सारांश

गर्मियों की छुट्टी के बाद कॉलेज का पहला दिन था | पहले ही नयन को बहुत देर हो चुकी थी | अपना कॉलेज बैग उठाया, माँ को बाय कहा और बस स्टॉप की तरफ भागी | बस स्टॉप घर से १० मिनट की दूरी पर था और सिर्फ ५ ...
Rohit Rastogi
दिल की छू लेने वाली एक उम्दा कहानी।।।बधाई के पात्र है आप
रिप्लाय
Daljeet Kaur
Very emotional story . I like it very much.
रिप्लाय
Beena Awasthi
प्यारी और संदेश भरी कहानी।
Lokesh Bhatnagar
बहुत सुन्दर व मर्मस्पर्शी कहानी।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.