जीवन साथी

मनीषा

जीवन साथी
(778)
पाठक संख्या − 31811
पढ़िए

सारांश

दोस्तो आज की जो स्टोरी है वो उतनी ही सच है जितना की आप और हम । विनय आॅफिस मे काम कर रहा होता है लेकिन ध्यान लगा कर नही कर पाता। सारा ध्यान तो घर पर होता है , की पता नही अब उसकी वाईफ कैसी होगी। उसका ...
Davinder Kumar
काश सारे परिवार ऐसे ही होते
सौरभ दबंग
bahut hi khoobsurat kahani 👌👌 बहुत ही अच्छे तरीके से दर्शाया है इसको जो समाज मे एक अच्छी चीज को दर्शाता है ।
shradha ojha
bahut sundar Or kam dekha jana wala sach
Shivani Meshram
Aisa sasural or pati srf Sapna h 😶
Meenakshi Verma
ase husbnd bht kam hote h duniya hai
Manisha
बहुत सुंदर लेखनी आपकी कहानी मेरी हकिकत से मिलती है.... बस मै बिमार नही स्वस्थ हुँ... कहानी अत्यंत मर्मस्पर्शी है दिल को छु गयी,... आपका और मेरा नाम भी मनीषा है😊
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.