जीवन साथी

मनीषा

जीवन साथी
(884)
पाठक संख्या − 41709
पढ़िए

सारांश

दोस्तो आज की जो स्टोरी है वो उतनी ही सच है जितना की आप और हम । विनय आॅफिस मे काम कर रहा होता है लेकिन ध्यान लगा कर नही कर पाता। सारा ध्यान तो घर पर होता है , की पता नही अब उसकी वाईफ कैसी होगी। उसका ...
Durgesh Gupta
अति सुंदर।
Rakesh Singh
bhut hi badhiya dil ko chuu gyi
Dhani Vyas
इस कलियुग में इतने अच्छे लोग भी हो ते है क्या...? समाज में बहू की परिभाषा ........ सेवा करवाने के लिए बहू चाहिए, काम कराने, घर सम्भालने, जिम्मेदारी उठाने के लिए। ये सब करने के बाद भी ......पराया ही माना जाता है।
Amit Saini
sapno ki duniya mai hota hai ye SB or kahani bhajt Sundar lgi
Vivek Sahu
अतुलनीय कथा
रिप्लाय
abhimanyu kumar
marmik....but heart touching. ..GD msg ....
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.