जीवन मृत्यु

Preeti Chauhan

जीवन मृत्यु
(6)
पाठक संख्या − 36
पढ़िए

सारांश

जीना मरना खेल है जैसे कोई समझ ना पाए फिर भी अजब नियम है अजब है कायदे कोई समझ ना पाए इसको एक अकेला रचता जिसको एक चाल जो चल दे सीधी अगली पर ही मारे पलटी अजब खेल है ये ज़िन्दगी ...
Pawan Pandey
जीवन दर्शन की बहुत सुंदर चित्रण किया है आपने। बहुत ही अच्छा लगा। शुभ कामनाएं।
Ritu Kashyap
nice
रिप्लाय
neetu singh
Nice one
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.