जीबी रोड की वेश्या

सिद्धार्थ अरोड़ा

जीबी रोड की वेश्या
(420)
पाठक संख्या − 16367
पढ़िए

सारांश

वेश्या है तो मतलब से ही होगी। पर वो कोई वेश्या नहीं, वो उनकी अक्का थी, अक्का का काम होता है उन रंडियों को सही दाम दिलवाना और उनका ख्याल रखना। डेनियल की नज़र बन्नो पर जिस दिन से पड़ी, बन्नो के मिज़ाज़ ही बदल गए। वो दिन कुछ अलग था। हर तरफ....
Archana Rawat
ख़ूबसूरत रचना..... ख़ूबसूरत अंत......
sanju
bhut achi kahani Sidharth ji. samaj ke us varg ki kahani likhna bhut bdi bat hai jiske bare me koi khul ke bat bhi nhi krta. excellent story
नीता राठौर
पहले भी पढ़ी थी, आज फिर पढ़ी। हर बार नई सी। दिल छू लेने वाली कहानी।👌👌👌
Rahul Ratre
achchi kahani.. but last samajh ni aaya achche se
अभिषेक गुप्त
कहानी बहुत अच्छी है, लेकिन एक बात समझ में नहीं आया कि कहानी का दूसरा भाग भी है या फिर यही पर ख़तम क्योंकि कहानी के अंत सही से नहीं हुआ है और लग रहा है जैसे कहानी और कुछ कहना चाहती है। वैसे बुरा मत मानिएगा, मैनें बस अपनी राय दी है।🙏🙏🙏🙏
Asha garg
really very beautiful heart touching story 👍
FAKE आशिक
agr ye real story pr based h then verry good if not nice story
Devesh Pal
Nice story but end me thodi Complicated hai . Samjne me .
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.