जिस हिंसा के निशान दिखाई नहीं देते

सुधा अरोड़ा

जिस हिंसा के निशान दिखाई नहीं देते
(35)
पाठक संख्या − 2418
पढ़िए

सारांश

उम्र - बासठ वर्ष। एक सामान्य गृहिणी। नाम - तृषा। वैसे नाम से क्या फर्क पड़ता है। फर्क इस बात से जरूर पड़ता है कि मैं संगीत विशारद हूँ। शादी से पहले मैं अपने शहर के एक प्रतिष्ठित कॉलेज में संगीत ...
anita
sundar abhivyakti
Anand
Excellent way to present millions women's problems. Worth to read.. 👍👍
Megha Jain
bahut sunder,ek dam.gahrai se likha hua article,kitna sach hai ki shareer ki chot to sabko dikhti hai man k ghaav koi nahi dekhta,very true
Daya Shankar
itna sookshm vishleshan padhkar sarahane ko barbas dil kar says. Achha hota sab kuchh karne ke baad kitipay purush nrishansh sparoksh hinsa ke shikar hain.Sundar....
Divya bamaniya
बहुत सही और सत्य वर्णित किया है।
Anju Chouhan
bahut gehri soch h apki
Rupesh kumar Bhardwaj
Thank you Mam for this beautiful learnings, which is base of our well cultured society. without respecting and empowering woman a society can't survive for long. I hope you will inspire our generation regularly through your inspiring articles.
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.