जिन्न की मित्रता - 8

Shivraj Singh Rana

जिन्न की मित्रता - 8
(55)
पाठक संख्या − 5396
पढ़िए

सारांश

प्यार, जिन्न, मुहब्बत, तंत्र
yashin.Y.shaikh
so kyuts verry nice app
deepak
Bahut achi.jin jiske saath Khada ho jata hai woh maalamal ho jata hai. agar Ruth jaye toh barbaad kr deta hai.
कुलदीप सिंह हुडडा
क्या शानदार कहानी लिखी है आपने भाई..सभी भाग पढे हैं मैंने जो एक से बढ कर एक बेहतरीन हैं.. आप के नाम के पीछे राणा देख कर लगता है कि आप जाट हो..मैं भी जाट हूं हरियाणा से
रिप्लाय
दीपक जांगिड़
achi h kahani... 😊 rana ji next part ka intjar rahega....
रिप्लाय
sachin kothari
Waa Waah kya baat!!! next part??
Ravi Kashyap Rajandar Kashysp
very nice
रिप्लाय
Momin Nisha
bahut achchha likhte hain aap
रिप्लाय
Asha Sharma
nice .but end thoda or achha ho sakta tha
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.