जिन्दगी,एक जंग

Namrata Pandey

जिन्दगी,एक जंग
(11)
पाठक संख्या − 324
पढ़िए

सारांश

आज चित्रा के लिए बहुत खुशी का दिन था क्योंकि आज उसका बचपन का सपना पूरा होने वाला था। सपना, जो उसने अपने मम्मी पापा और भाई अनुराग के साथ मिलकर देखा था कि वह निशानेबाजी में भारत को ओलंपिक का स्वर्ण ...
janki
awesome
रिप्लाय
sushma gupta
ओह...,, बहुत गलत किया दोस्त होकर..,, लेकिन चित्रा ने भी हार नहीं मानी.. माँ ने बहुत हिम्मत दी.. अंततः 🥇😊, बहुत ही बढिया प्रेरक रचना 👌🌷👌🌷👌🌷👌🌷
रिप्लाय
Mukesh Kumar
ये कहानी मेरे दिल को छू लिया है।
रिप्लाय
Smita Deshpandd
suparb story 👍👍
रिप्लाय
Sondhiya Rajesh
osam mam
रिप्लाय
Kuldeep bairagi
superb sis
रिप्लाय
सरिता जड़ौत
बहुत ही सुन्दर
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.