जाड़े की रात

जाड़े की रात
(124)
पाठक संख्या − 12091
पढ़िए

सारांश

जाड़े की रात
Ardhendu Pandey
विनय कुमार जी आप कुछ दिगभ्रमित नजर आ रहे हैं,आप क्या लिखना चाह रहे आप को खुद ही पता नहीं मुंशी जी की नक़ल मत करिए बल्कि उनकी वैसी ही आराधना करिये जैसी एकलव्य ने गुरु द्रोण की की थी ,लेखन में सुधार आ जायेगा l
Rohit kumar Singh
ये कहानी अधूरी है,उपर से मुंशी प्रेमचंद की कहानी पूस की रात लगती है।
रिप्लाय
Kavita Chaudhary
nice
रिप्लाय
Mukesh Verma
मुन्शी प्रेमचंद की 'पूस की रात' से मिलती जुलती कहानी।
रिप्लाय
Girraj khatri
कतई घटिया बेसिरपैर की कहानी
Iliyas Mirza
कुछ भी ना सिर ना पैर कहानी का
Raj Veer
kya h ye aduri khani
aparna
bahot sundar rachna
रिप्लाय
Uday Pratap Srivastava
ठीक है
रिप्लाय
Meenakshi Srivastava
nice
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.