जानवर

kapil Tiwari Benaam🇮🇳

जानवर
(34)
पाठक संख्या − 142
पढ़िए

सारांश

कहानी> जानवर आज सुबह उठने में जरा देर हो गई। आनन-फानन में तैयार होकर कॉलेज के लिए निकला, रास्ते में देखा कि एक कुत्ता कुतिया की लाश के पास उदास बैठा था। जो भी भूलवश करीब से ...
Anju Chouhan
जब तक हर माँ अपने बेटे को अपनी और हर स्त्री की इज्जत करना नही सीखायेगी ऐसेकुकृत्य सुने जटाए रहेंगे। हर लड़की को बुरी नज़र डालने वालों की आँखे फोड्णी होंगी तब बदलाव आएगा।
Deepak Kumar
ummed per duniya kayam h.. wo shubah jarur aayegi.
Asha garg
so sad very heart touching 😓😓
रिप्लाय
Hari ram V
जीव को ई भी हो।भावना सबकी नजरें ,समझ एक हुआ करती है।जानवर बेहद पसंद आई।धन्यवाद .।
रिप्लाय
Rahee Raissa
kahani to achhi hain. lakin word kahi kahi jurd gayi hai.or ak jagah par full stop nahi para. ap ki jagah main hoti to us kutiya ko gadrnaki kousis karti. humanism ka tor par nahi to Paribash Dushan na ho Isiliya. hamara yaha par mara hua koibhi prani dakha to use jarur gadr data hai.
रिप्लाय
रानी साहू
achha likhte ho very good
रिप्लाय
sham Sharna
Sachmuch sabase bada janavar to insan hi hai
Pooja DHINGAAN
amazing story
रिप्लाय
नंदिनी सिंह
निशब्द हूं मैं, मार्मिक रचना
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.