जल्द ही मिलेंगे

Gaurav Kumar 'वशिष्ठ'

जल्द ही मिलेंगे
(230)
पाठक संख्या − 17951
पढ़िए

सारांश

मेरे बहुत सारे पाठकगण के मन में बहुत सारे सवाल हैं जैसे वो लड़की कौन थी? इस कहानी का क्या अगला भाग भी आएगा? आगे क्या हुआ? इत्यादि। मैं अपने पाठक को यह बताना चाहूंगा कि जो मैंने सुना वो मैनें लिख दिया, अपने तरफ से मैनें इसमें कोई काल्पनिकता नहीं डाला है। मेरे मन में भी यही सवाल थे पर अब वो ताई इस दुनिया मे नहीं हैं इसलिए वो सवाल अनसुलझे ही रह गए।
Unknown Unknown
bahot badiya...
रिप्लाय
પાર્થ પટેલ
बहोत खूब ...ऐसे ही लिखते रहिये....मेरी सस्पेंस कहानी "छल" पढ़िए , वो भी आप को अच्छी लगेगी
रिप्लाय
tamanna
it's very nice , trilling story I like it very much 👍👍👍
रिप्लाय
pooja
omg ye such h 😱😱😱
रिप्लाय
komal
nice story
रिप्लाय
Rekha Sharma
agar ye sach par adhaarit h to bahot daravni or dusri kahaniyon se ekdam hatkar h. iska agar suspense pata lag jata to padhkar or majaa aata.
रिप्लाय
Dr Sk Saxena
अच्छी कल्पना।
रिप्लाय
युपेंद्र कुमावत
ये तो गलत बात हैं , किसी तरह इस कहानी को पूरा लीजिए।।।।
रिप्लाय
Neelam Chauhan
nice
रिप्लाय
Ranjeet Bhiralia
very nice
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.