छलावा

अरुण गौड़

छलावा
(374)
पाठक संख्या − 14369
पढ़िए

सारांश

राजू ने उसके बारे मे बात शुरू की थी वो बताने लगा की छलावा नाक मे बात करता है, उसके पैर पीछे की तरफ मुड़े हुए होते हैं, उसकी परछाई नही दिखती वो बहुत तेजी से पीछे भागता है और किसी का भी रूप बदल लेता है, और अगर...........
Unknown Unknown
🤣🤣😂🤣😂🤣🤣 mja aa gya.... aise lga koi samne beith kr kise Suna rha ho.....mera off mud fresh aur relax ho gya...thank u....keep it up....,🙂🙂
रिप्लाय
Madhu mishra Dwivedi
👌👌👌👌
रिप्लाय
Jyoti Narwat
pdhete pdhte hsi aane lgi or her kisi ki lyf m kch kch na aisa hota jrur h ya tw sbak milta h ya hsi ka pal bn jata h story bhot achi h
रिप्लाय
Atul Jain
🤣🤣🤣🤣
रिप्लाय
Prashant Mishra
कहानी शुरू में बहुत अच्छी थी लेकिन बाद मे ..
रिप्लाय
Sawi Verma
बहुत खुब अरुण जी।इसका next part bhi hy .mujhy to story complete lagi .
रिप्लाय
Kavita Chaudhary
👌👌👌👌👌
रिप्लाय
Sony Kashyap
pehle wali bahut acchi thi.... ye mujhe kuch khaas nahi lagi 😶
रिप्लाय
शुभा शर्मा
ये तो कॉमेडी हो गयी ,मज़ा आया।
रिप्लाय
prashant bhatt
यह तो हर बच्चे की कहानी है। लेकिन सिर्फ जिनका बचपन ९०के दशक में था। उसके बाद!!!!!!!!????
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.