छबीली

आशुतोष कुमार तिवारी सुमन

छबीली
(137)
पाठक संख्या − 6488
पढ़िए

सारांश

छबीली ......... एक स्त्री ...... डोम जैसी पिछड़ी जाति में पैदा सामान्य स्त्री की दास्तान कोई चमत्कारिक शक्ति नहीं एकदम साधारण शोषण का तिरस्कार का दंश झेलती हुयी............... अछूत होने के बावजूद उसके हुस्न के पुजारी सब बनना चाहते हैं.... समाज के वासना का शिकार होती स्त्री की सामान्य कथा........
Deepak Chaudhry
मार्मिक चित्रण
shubham kumar
कहानी अच्छी है, इसमे कुदरा का नाम आया है क्या यह वही कुदरा है जो भभुआ में है।
dr giri
अच्छी है।
Pankaj Siroliya
बहुत ही शानदार और अर्थपूर्ण कहानी है। it's true story
Satish Kumar
Dil me ek dard dene wali storie aur samaj ka ek gandi tasweer..
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.