चूड़ैल ( भाग- 1 )

Rajendra Kumar Shastri 'Guru'

चूड़ैल ( भाग- 1  )
(41)
पाठक संख्या − 3051
पढ़िए

सारांश

एक ऐसी कहानी जो आपको सोचने पर मजबूर कर देगी. कृपया कहानी के टाइटल से यह अंदाजा ना लगाए की इस कहानी में केवल मनोरंजन या डर ही है. यह हर घर की कहानी है इस लिए कहानी के सभी भागो को पढ़े. वैसे भी आप सभी को पता है मैं मनोरंजन के लिए नहीं लिखता कोई न कोई सन्देश मेरी कहानियों में जरुर छिपा होता है. अत: मेरे पाठक मुझे गलत ना समझे आपको इस कहानी में वो मिलेगा जो आजतक आपको प्रतिलिपि पर नहीं मिला. ( गुरु)
CP Jangra
सही डरा लेते हो यार।
रिप्लाय
अमित कुमार
डर के भाव को बहुत अच्छा समेटा है आपने शब्दों में ,
रिप्लाय
Bala
एक अच्छी शुरूआत......
रिप्लाय
Kiran Singh
वैसे मुझ भूत प्रेत की काल्पनिक कहानियां पसंद नहीं है आपके कहने से पढ़ रही हूँ कहानी अच्छी है अँधविश्वास को दूर करती हुई है।
रिप्लाय
Sangita Gope
intersting
रिप्लाय
Shreya Chaturvedi
dr door nhi hua 🤣🤣
रिप्लाय
अनंतमणी
good start for 1st part Bhaiya 👍👍
Ruchi Gopal
achchi kahani hai 👏👏
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.