चीख-2

वर्षा श्रीवास्तव

चीख-2
(66)
पाठक संख्या − 3516
पढ़िए

सारांश

"किसी बात पर आंख बंद करके विश्वास करना जितना बड़ा अंधविश्वास है न उतना ही बड़ा अंधविश्वास है हर बात को आंख बंद करके नकार देना। अंधे तो दोनो ही हुए...
Shraddhaholic SK
वाह !!! क्या कहानी है 😊😊😊 बेहद ही शानदार 👏👏👏👏 लेकिन बेचारा मयंक मारा गया मुझे लगा कि वही इस कहानी का हीरो 😐😐😐 लेकिन नही इसका नायक तो विवेक है 😎😎 ये भी काफी दिलचस्प है 😁😁😁
parvesh k
great story madam mazaa aa gaya
anupam kumar
लाजवाब भाग रहा उतनी ही खूबसूरती के साथ लेखिका जी ने प्रस्तुत भी किया है, विवेक ने वहाँ जाने के बारे में सोचा है वो सही सोचा है मुझे लगता है विवेक अनामिका के राज़ से पर्दा जरूर उठाएगा बाकि आगे देखते हैं क्या होता है...
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.