चाहत के हौसले

Vidya Sharma

चाहत के हौसले
(481)
पाठक संख्या − 35621
पढ़िए

सारांश

( दोस्तों आप सभी से एक छोटी सी रिक्वेस्ट है कि आप कहानी पढ़ें तो उस पर अपने विचार कमेंट के माध्यम से अवश्य दें क्योंकि एक लेखक के लिए आपके विचार बहुत ही महत्वपूर्ण होते हैं। कई पाठक सिर्फ ...
हजारी लाल बैरवा
यह देखने,पढ़ने और सुनने में ही अच्छा लगता है, पर अपने मां बाप का दिल दुखा कर खुशियां ढूंढने वाले ज्यादा दिन तक खुश नहीं रह सकते
रिप्लाय
Pooja Mani
Nice story
रिप्लाय
Beena Awasthi
बहुत अच्छी कहानी। दो पीढियों के टकराव की कहानी। यह कहानी इस बात की ओर भी ध्यान आकर्षित करती है कि इस रास्ते पर एकबार कदम बढ़ाकर पीछे हटने की गल्ती करना जिन्दगी को और भी नर्क बनाना है।
रिप्लाय
Radha Sankhla
BHT achhi kahani . kahani padte padte hum khud isko jine lag jate hai. beautiful.
रिप्लाय
Sarita Chaturvedi
very nice story
रिप्लाय
Pallavi Prasad
अगर आपका साथी सही है तो पूरी दुनिया से लड़ने की हिम्मत खुद आ जाती है
रिप्लाय
Rinku Goswami
acchi
रिप्लाय
मुक्ता कुमारी
Very nice story. 👌👌👌👌time ke sath soch bdlna jruri h. Nhi to insan kbhi kush nhi rehta. Agar bachche achchha jeevan sathi chun le to parents ko bji accept kr lena chahiye.
रिप्लाय
Sudha neer
बहुत अच्छी रचना,,,
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.