घर का काम

Deepak SINGLA

घर का काम
(119)
पाठक संख्या − 2723
पढ़िए

सारांश

एक दिन मैं घर के बाहर बड़ी  तन्मयता से  गाड़ियाँ धो रही थी। साईकल पर जाता हुआ एक माली रुका और मुझसे पूछा, "कुछ पौधे वगैरह चाहिये?" मैंने कहा,"चाहिये तो" उसने कहा,"अपनी मैडम को बुला दो उनसे ही बात ...
जीके जसनाथी
जहाॅं तक बात खुद काम करने कि है तो वह अच्छी बात है मेरी माताजी को तो मैने हमेशा काम करते देखा है सुबह जल्दी उठती है और सबसे लास्ट में सोती है घर का काम करती है चार गाय है उनका ख्याल रखती है हमारी पढाई पर ध्यान देती है । खेत मे काम‌ करती है सब कुछ । और हमें भी  हर काम सिखाया हुआ है ताकि किसी के भरोसे न रहना पङे ।
Rajni Arya
बहुत ही न्यायसंगत समीक्षात्मक कहानी है। मैं भी अपने सारे काम स्वयं करती हूं। दिखावे के लिए मेरे जीवन में कोई स्थान नहीं है। वैसे भी मशीनरियों से सारे काम अब बहुत आसान हो गये हैं। सबकी सोच न एक सी हो सकती है और न ही अचानक बदली जा सकती है, लेकिन यह कहानी सौंदर्य को चिरस्थाई बनाने का एक अच्छा विकल्प प्रस्तुत कर रही है हो सके तो कर्म को प्रधानता देकर जीवन को सफल बनाने का प्रयास करें।
कमल श्रीचंदानी
दीपक जी , सबसे पहिले तो मैं शिखा जी की समीक्षा के लिए आपसे क्षमा मांगता हूं,मैं नहीं जानता यह उचित होगा कि नहीं। उसके बाद आपको कोटिशः धन्यवाद इस रचना के लिए। वो भी तब, जबकि आप दीपिका यानि स्त्री नहीं हैं, बल्कि दीपक हैं मान्यवर, मेरे घर पर कोई नौकर नहीं है हालांकि मैं मध्यम वर्गीय परिवार से हूं फिर भी कम-से-कम एक महरी रखी जा सकती है। लेकिन मैं इसके पक्ष में कभी नहीं रहा। फलस्वरूप मेरे दो बच्चे हैं और इस मंच से यह सबको बताना चाहूंगा कि मेरे दोनों बच्चे घर पर ही पैदा हुए हैं, वो भी बिल्कुल नॉर्मल। आपने तो खैर पूरी व्याख्या ही कर दी ,एक-एक कैलोरी के हिसाब से। लेकिन दीपक जी, इस विषय में सबसे बड़ी समस्या है शर्म, भला मिसेज़ गुप्ता क्या कहेंगी। घर पर कोई आया तो कितना बुरा लगेगा...? बस दीपक,मैं आपको साधुवाद देते हुए अपनी समीक्षा समाप्त करूँगा क्योंकि लिखने पर आइये तो दो हज़ार शब्द और लिखे जा सकते हैं।मैं शिखा जी से भी माफ़ी चाहूंगा, मेरा इरादा किसी को ठेस पहुंचाना नहीं है।
Shikha Shrivastava
sirf housewife ko soch kr likha gaya lekh lagta he. house wife ke paas sirf whtsapp Or fb chalane k alawa bhi bahut se kaam hote he medam. or jb aap itna kuch kr hi leti he to kl se gehu Or sabjiya bhi ugaane lagi.. aapke ghr le log dhany ho jayenge... ek baat yaad rakho aap ki sirf House wife fursati nahi hoti or n hi working mahan.. ye sabke ghr ki conditions pr nirbhar karta he.. bahut si mahilaye apne pati Or baccho ko priority me rahti he tabhi vo ghr pr hoti he.
Ravendra Kumar
Absolutely right 👍
anil kumar
bahut hi important msg Diya h apne .Har kisi ko apna kaam khud krne Ki aadat honi chahiye
Archana Sahu
आपकी एक एक बात में सच्चाई हैऔर मैं भी अपना और अपने घर का काम स्वयं करती हूं और शायद इसलिए डा. से दूर रहती हूं।
Vinita Sharma
absolutely right
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.