गोद

एस.भाग्यम शर्मा

गोद
(304)
पाठक संख्या − 12968
पढ़िए

सारांश

माधंगी जयरामन तमिल कहानी का हिंदी अनुवाद ‘‘हम गोद ले’’ जैसे ही मैने कहा मेरे पति ने मुझे घूर कर देखा। ‘‘क्यों हमारी दो बेटियों की शरारत कम लगी क्या? तुम्हें एक बेटे की इच्छा है तुमने पहले नहीं ...
Jaya Mallick
आपकी सारी रचनाये सुंदर है।
Reena singh
आज ऐसी ही बेटियों की ज़रूरत है
Shraddha Upadhyay
dil bhr aaya mera to ye kahaani pdhkr
रिप्लाय
सरोज
अद्भुत 👌👌
Rajkumari Mansukhani
very touching good thinking
Archana Varshney
बहुत अच्छी
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.