गुमनाम प्रियतम के नाम एक खत

Deepa Khetawat

गुमनाम प्रियतम के नाम एक खत
(5)
पाठक संख्या − 28
पढ़िए

सारांश

.....✍️ एक तो अमावस गहराई सी उस पर प्रिय की प्रीत सघन पल छिन टोह रहे चौखट पर उमग उमग आता है मन ❤️ मेरे सांवले सजन निमड़े की छांव सी तुम्हारी मधुर प्रतीति कैर के कांटों सी तुम्हारे बिरहा के दंश ...
Rajni Kheterpal
बहुत बढ़िया ख़त 💕
Pushpindra Bhandari
बेहद खूबसूरत ख़त , काश कि पहुंचें प्रियतम के पास
Soniya Miglani
लाजवाब अहसासों की लडी़ पिरोई है आपने वाहहस
Kumud Kushwaha
सुन्दर शब्द संयोजन । सरस भावयुक्त कविता ।
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.