गुब्बारे और ग़ुबार भाग 1

राजीव पुंडीर

गुब्बारे और ग़ुबार भाग 1
(34)
पाठक संख्या − 4365
पढ़िए

सारांश

बच्चे रंग-बिरंगे गुब्बारों की तरह होते हैं - बहुत सुंदर और बहुत नाज़ुक भी I हमारी ज़रा सी लापरवाही और हमारे गुस्से का ग़ुबार इनके व्यक्तित्व को तहस-नहस कर सकता है I इसलिए इन्हें प्यार से, दुलार से संभालें, डांटकर नहीं I
Kulvinder Garg
very nice heart touching story
रिप्लाय
J Singh
Bhout he ache kahani he
रिप्लाय
Vikas Sharma
सुंदर
रिप्लाय
VIVEK RAWAT
very nice
रिप्लाय
Rupa Garg
amazing
रिप्लाय
Anju Chouhan
bahut acchi
रिप्लाय
Manjari Agnihotri
Heart touching dil ko chu gyi
रिप्लाय
Punam Khare
bhag 2 gubbare aur gubar ka kab tak prasarit hoga
रिप्लाय
Anil Gupta
Very emotional and real
रिप्लाय
भारती पाण्डेय
क‌‌ई बार माता पिता अनजाने में ही सही लेकिन बच्चो के साथ बेहद शख्ती से पेश आते हैं।जिसकी वजह से उनकी मासूमियत कहीं खो जाती है। बेहतरीन पोस्ट 👏👏
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.