गलती मेरी थी, हमेशा रहेगी

निशान्त

गलती मेरी थी, हमेशा रहेगी
(436)
पाठक संख्या − 24696
पढ़िए

सारांश

नित्या ने मुझे सेक्स के लिए खुला निमंत्रण दिया था. पता नहीं हैंगोवर था या इस बात से हुई झुन्झुलाहट, मेरा सर दर्द से फट रहा था और मैं फिर सोने चला गया.
Jitendra Pahadwa
अच्छी रचना है लेकिन कभी नित्यभा और कभी नित्याभा और कुछ वर्तनियों की अशुध्दियां हैं
रिप्लाय
Anindita Bhattacharya
Wow, superb man :keep it up
रिप्लाय
Nancy Singh
most touchy story.......
रिप्लाय
Somesh Ârmo
👌👌👌👌👌
रिप्लाय
प्रियंका जैन
कहानी अच्छी हैं दिल को छूती हैं।...माधव जी का कुछ ज्यादा ही फायदा उठाया हैं सभी लड़कियों ने...माधव जी कभी कुछ ऐसा करे तो जरूर लिखियेगा...😀😀
रिप्लाय
Maroof
Nice story
रिप्लाय
पारस प्रणव
कहानी के माध्यम से ही सही कम से कम सेक्स नहीं परोसा आपने। सुखद अनुभव हुआ। कहानी बेहतरीन तरीके से शुरू और अंत हुई।
रिप्लाय
Yogesh Kanava
achchi kahani hai
रिप्लाय
Utkarsh Mishra
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
रिप्लाय
Vibha Agarwal
very nice story
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.