गलती किसकी? भाग-१

शशि कुशवाहा

गलती किसकी?  भाग-१
(39)
पाठक संख्या − 5417
पढ़िए

सारांश

समय और परिस्थियां इंसान को मजबूर कर देती है
Srishti Gupta
अरे वाह! मेरा नाम भी सृष्टि है। मैंने आज तक अपना नाम किसी कहानी में नायिका के रूप में नहीं देखा। मुझे इस कहानी को पढकर अच्छा नहीं लगा क्योंकि सृष्टि ने ही गलत मार्ग चुन लिया जिसे मैं स्वयं की कल्पना करके पढ रही थी।
Rashmi Sangwan
kahani achchhi likhi gai thi...par jo hua vo achchha nhi hua...or jahan tak galti ki baat h...thodi thodi sabki thi.
रिप्लाय
Abhilasha Chauhan
बहुत बढ़िया
रिप्लाय
निमॆला झा निरमा
़पहलाभाग रूची कर लगा वाकी के भाग र्प्रसतुत करे
रिप्लाय
Swarup Acharya
, nice one.. next
रिप्लाय
Ganesh Nikhare
nice story 👌
रिप्लाय
Santosh Kumar Gupta
अतिसुंदर।
रिप्लाय
पं.रवि शास्त्री
सार्थक प्रयास, आगे भी आपसे आशा रहेगी। शुभकामनाएं।
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.