ख्वाजा, ओ मेरे पीर!

शिव मूर्ति

ख्वाजा, ओ मेरे पीर!
(61)
पाठक संख्या − 5319
पढ़िए
रवि शेखर
ऐसा लगा रेणु को पढ़ रहा हूँ,शिवमूर्ति जी का लेखन लोक जीवन का जिवंत एवं सजीव चित्रण करता है।
Akram Shaikh
bebasi....... 😷😷😷 bahot achhi kahani hai.
Mridul Singh
शब्द नही है,,,प्रेम ये भी है
Vivek Singh
bahut hi shandar story, it's like novel , claps for this one
Alka Sanghi
man ko bhav vibhor kai gayi kahani
Poonam Mishra
Shabd nahi hain tareef ke liye grameed jeevan ka itna Utkrsht lekhan hai ki man bhar aaya aur dono vridhon ne to man dravit kar diya utkrashth lekhan
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.