खुशियों भरा दुःख

Artee priyadarshini

खुशियों भरा दुःख
(235)
पाठक संख्या − 67657
पढ़िए

सारांश

सात बहनो के एकलौते भाई की समस्या
Gattu Sharma
rula diya
रिप्लाय
Sudhir Kumar Sharma
अद्भुत
रिप्लाय
Anita Shakya
bhuht hi real story ti
रिप्लाय
DrDiwakar Sharma
अपनी जिम्मेदारी निभाना बहुत अच्छी बात है।किसी का सहयोग, मार्गदर्शन लेकर काम पूरा करना भी ठीक था पर दीपक का आरती को अपनी सबसे छोटी बहिन की शादी तय हो जाने की खबर न बताना उसकी मौत का कारण।वंश वृद्धि की आशा मे ंदो पीढियों की खुशी, तीसरी पीढी की त्रासदी।नकारात्मक कहानी।छोटे परिवार का महत्व प्रमाणित होता है।
रिप्लाय
Kamlesh Patni
आत्महत्या कहानी का अंत नहीं हो सकता।जीने के कई रास्ते और भी हैं।
रिप्लाय
Kavita Arora
kya hmara desh ne galat reet riwaj ke siva hme virasat me kuch nahi diya
रिप्लाय
Raj Kumar Girotra
समाज सिर्फ लड़के की चाहत में लड़कियों को पैदा तो कर सकता है वह भी वंश चलाने की खातिर लेकिन शायद वह नहीं जानता कि लड़की से भी वंश चलाने सकता है
Manisha Giri
heart touching story
रिप्लाय
Savita Soni
आत्महत्या समस्या का हल नहीं,अनीता आखिरी लड़की नहीं थी,समाधान बहुत है,नजरिया स्पष्ट होना चाहिए, कायरता या भावुकता ,अधीरता ठीक नहीं,ठहराव होना चाहिए ,जीवन मै,खासकर नवयुवकों के।
Komal Patel
अंत कुछ और सोचा हमने तो...
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.