खुद को यूँ बचाया न कर

Ritu Uday

खुद को यूँ बचाया न कर
(1)
पाठक संख्या − 11
पढ़िए

सारांश

खुद को यूँ बचाया न कर,हर पल को बस जी जाया कर दुःख तो थोड़े बहुत सभी की ज़िंदगी में है, अपने गम भुलाकर तु मुस्कुराया कर तुझे लगता है ना कमी है तुझमें कुछ,इस कमी को आत्मविश्वास से दूर भगाया कर सोचा मत कर ...
Salim Khan
Behad Umadah👌👌
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.