खाली-खाली

नीतू सिंह 'रेणुका'

खाली-खाली
(308)
पाठक संख्या − 42669
पढ़िए

सारांश

[यह कहानी केवल वयस्कों के लिए है] [This Story is only for adults] कमला ने बेसन भरे हाथों से बचाते हुए दरवाज़े की कुंडी खोली तो दरवाज़े पर अपर्णा खड़ी थी। “नमस्ते भाभी।” “अरे आओ-आओ अपर्णा। बहुत सही समय ...
Purushottam Bansal
बहुत ही शानदार
Rajbir Parmar
कहानी शिक्षाप्रद है । पारिवारिक रिश्तों का भी बहुत अच्छा उदाहरण है
Davinder Kumar
मुश्किल समय में परिवार का संबंध और उत्पन्न समस्याओं से जूझने का जज्बा उकेरा गया है
Meenu Manchanda
awareness and support system gives strength to every human being . this is not a adult story even teenager have this kind of information
fk bhati
bahut achi lagi kahani, jab apno ka sath ho to duniya ki badi se badi mushkil se ladne ki himat bhi aa jati h
Meenu Rawat
बहुत ही सुन्दर कथा ।आपकी लेखनी को नमन, आपने एक ज्वलंत समस्या का समाधान अपनी कलम के माध्यम से किया है। 🌹🌹
Rekha Jain
Really appreciated .....
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.