कोई बात नहीं

दीपक जी सूरज

कोई बात नहीं
(38)
पाठक संख्या − 927
पढ़िए

सारांश

मुहब्बत उसे मुकम्मल हो जिसे उसकी जरुरत हो, नहीं तो .... "कोई बात नहीं".................
Ajhar Shaikh
good one
रिप्लाय
Sanskar Ritesh
mast hai boss
रिप्लाय
shivam sharma
good work
रिप्लाय
Vikas
एक अच्छी रचना सफल प्रयास।
रिप्लाय
Sanjeev Kumar
good
रिप्लाय
saurav singh
कोई बात नहीं
रिप्लाय
shivi Pal
nice
रिप्लाय
Binay Kumar Sinha
अच्छी पहल, बधाई ! आप केवल मायूशियां की जगह मायूसियां कर लें !!
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.