कैसा ये दर्द है

Akela musafir ...🚶

कैसा ये दर्द है
(6)
पाठक संख्या − 8
पढ़िए

सारांश

कैसा ये दर्द है जिन को चाह बोहत वो साथ छोड कर चल दिये । एक आस थी उन से के साथ देगे जीवन भर पर साथ अधूरा छोड गये ...... दर्द ए जुदाई कैसे साहु उन बिन . जिनके बीना शायद कोई पल बीता हो कैसा ये ...
Sunita Pathak
जी बहुत अच्छा लिखा है पर मात्राओं को थोड़ा सुधारने की जरूरत है बस...😊👍
रिप्लाय
सोनाली गडगे
Accha prayas hai dost... nice
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.