कुबड़े की कहानी

अज्ञात

कुबड़े की कहानी
(41)
पाठक संख्या − 22297
पढ़िए

सारांश

कुबड़े के भाई ने कहा उसका वृतांत ---- मेरा सबसे बड़ा भाई जिसका नाम बकबक था, कुबड़ा था। उसने दरजीगीरी सीखी और जब यह काम सीख लिया तो उसने अपना कारबार चलाने के लिए एक दुकान किराए पर ली। उस की दुकान के ...
Ayyaz Khan
कहानी पढ़ते समय रोचक लगती है पर अंत वैसा नही होता जैसा हम उम्मीद करते हैं
Shailja Singh
Bhoot utra wo to thik hai par wo aurat thi ya chudil samjh nahi aaya
रिप्लाय
Jyoti Sharma
ही ही ही
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.