कुछ बहुए माँ भी होती है

मनीषा गौतम

कुछ बहुए माँ भी होती है
(405)
पाठक संख्या − 18432
पढ़िए

सारांश

शाम को मै पड़ोस में जाकर गीता के पास बैठ गई। उसकी सासू माँ भी तो कई दिनों से बीमार है,बिस्तर पर ही रहती है पति बहुत पहले ही गुजर गये थे,सभी बच्चों को बडा संघर्ष करके उन्होंने पाला था।….. सोचा ख़बर भी ...
sourabh garg
great kash hr gatha esa hi ho
Aruna Garg
aaj ke swarthi dour me Sahi shiksha deti he ye rachna.kssh ki Sab esa soche to vridhaaashram khatm ho Jaye.
Rajni Bansal
👌👌👌💐💐
शुभा शर्मा
आपकी कहानी उन बहुओ को सदबुद्धि दे ,जो केवल सास से स्वार्थ सिद्धि ही चाहती हैं।
sudha tiwari
बहुत अच्छी रचना काश ऐसी समझ हर किसी को हो
Satish Popat
ईश्वर सबको ऐसी बेटी के रूप में बहु दे
राजेश सिन्हा
बहु की ऐसी सोच को सलाम।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.