कुच्ची का कानून

शिव मूर्ति

कुच्ची का कानून
(734)
पाठक संख्या − 23331
पढ़िए

सारांश

हिंदी के वर्तमान कथाकारों में शिव मूर्ति की पाठक संख्या अकूत है | वे स्तरीयता और लोकप्रियता दोनों के मानदंड हैं | उनकी कहानियां आम आदमी के जीवन ,उसके सुख - दुःख ,संघर्ष और आशा - निराशा की कहानियां हैं |प्रस्तुत है उनकी ताजा - तरीन कहानी "कुच्ची का क़ानून " | यह गाँव की २० - २२ वर्ष की उम्र वाली कुच्ची की कहानी है |जो ,दो वर्ष पहले विधवा हो गई थी और अब उसके पेट में ५ mअह का गर्भ है | इस गर्भ के कारण उसके ऊपर टूटा मुसीबतों और खतरों का पहाड़ - इन मुसीबतों और खतरों से हिम्मत और हौसलों के साथ लड़ती - जूझती कुच्ची | क्या होगा कुच्ची का ? वह बचेगी या मार दी जायेगी ? खाप पंचायत उसके मामले में क्या फैसला सुनाएगी ?
Chand Kharb
very fine very suprb
Deepak Rathor
अति सुंदर रचना है ।
दीपिका पाण्डेय
मार्मिकता से ओतप्रोत सारगर्भित रचना।यहाँ पर यह कहना तर्कसंगत होगा कि यदि साहित्य समाज का दर्पण है तो आपकी रचना सार्थक एवम् सटीक है।कलम की धार सराहनीय है।प्रत्येक शब्दावली जीवंत एवम् सार्थकता का मिश्रण लिए हुए है।महिलाओं की मनोदशा का मार्मिक एवम् सूक्ष्मता से उकेरना हृदयस्पर्शी अंक रहा।आपकी इस कृति को पढ़कर लग रहा है कि मुंशी प्रेमचंद जी का दौर फिर से आ गया।मैं धन्य हूँ मुझे इस नायाब कृति को पढ़ने का सुअवसर प्राप्त हुआ।नमन है आपकी लेखन शैली को।✍️🙇🌹🌹☺️🙏🙏
Sharadpurnima Gupta
उत्तम रचना
Anjani Tiwari🇮🇳
my all time fvrt.
रिप्लाय
प्रीत
अत्यंत सारगर्भित कथा,शब्दों का उत्कृष्ट चयन,लेखन का अद्भुत प्रदर्शन अत्यंत सराहनीय है। महिलाओं के एक अहम मुद्दे को आपने अपने लेखन में उठा कर समाज को एक विचारणीय प्रश्न दे दिया है। जिसका उत्तर सभी को पता तो है किंतु उत्तर देने से डरते हैं। कुच्ची एक साहसिक पात्र है और उसके सास ससुर भी उसके इस साहसिक निर्णय में उसका साथ देते हैं, ये बात कथा को एक अलग स्तर पर ले जाती है। समाज की परंपरागत रूढ़ियों को तोड़ती नायिका की कथा का लेखन वाकई क़ाबिल-ए-तारीफ़ है। आपको साधुवाद!🙏🙏
Dimple Badesha
bahut sunder kahani thi
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.