कुंठा

ओमप्रकाश क्षत्रिय

कुंठा
(19)
पाठक संख्या − 2542
पढ़िए

सारांश

पत्नी की अधूरी इच्छा किस तरह कुंठा बन कर निकलती है ? जानिए इस लघुकथा में .
Dipali Pandey
😊😊गाना तो सुनना ही होगा।
Shalini Suryawanshi
super
रिप्लाय
Uday Pratap Srivastava
पसन्द आया
रिप्लाय
Suman Pandey
hasyaspad
रिप्लाय
बी के दीक्षित
बहुत अच्छी रचना । कुंठा के आकंठ में डूबा शख्श अपनो के सफलता पर भी खुशिया नही मना पाता हैा
रिप्लाय
ओमप्रकाश क्षत्रिय
कृपया पढ़ कर प्रतिक्रिया अवश्य देवे
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.