किसी से न कहना

सुधा आदेश

किसी से न कहना
(202)
पाठक संख्या − 13666
पढ़िए

सारांश

‘ दुल्हन के आगे फूल बिखेरती हुई , नीली आँॅंखों वाली सुंदर सी लड़़की की ओर क्या आपने ध्यान दिया था....?’ अमिता ने विवाह के स्वागत समारोह से लौटकर जूड़ा खोलते हुए आशुतोष से पूछा। ‘ क्योंं क्या बात है, ...
सुबोध चतुर्वेदी
खुबसूरत कथानक,सुखद अनुभूतियों से भरा
रिप्लाय
Rinki Singhal
very nice story mam , pdte pdte aankho me aansoo aa gye. bhut hi jyada marmik aur dil ko chu lene wali 👏👏👏
रिप्लाय
joshi paresh
Good
रिप्लाय
shivani
good
रिप्लाय
Akashkumar saini
good .wah suda ji apki hr story me sammohan h .sb kahaniya me ye vishesta h .ki hr kahani kuch na khuch sandesh de jati h .or jindgi me aage bdte tahane ki shikh bi .aapko to nari ki pidao pr kahani likhne ka puruskar milna chahiiye .thank you suda ji lakh lakh danyawadh
रिप्लाय
Yatish Kashyap
सुंदर रचना।
अभिजीत
बढ़िया
रिप्लाय
Deepak Nema
v good
रिप्लाय
Sanjeevani Nagdeo
bahot badhiya
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.