किसी से न कहना

सुधा आदेश

किसी से न कहना
(244)
पाठक संख्या − 16416
पढ़िए

सारांश

‘ दुल्हन के आगे फूल बिखेरती हुई , नीली आँॅंखों वाली सुंदर सी लड़़की की ओर क्या आपने ध्यान दिया था....?’ अमिता ने विवाह के स्वागत समारोह से लौटकर जूड़ा खोलते हुए आशुतोष से पूछा। ‘ क्योंं क्या बात है, ...
Jyoti Rishi
Ati uttam mn ko chu gai Excellent
रिप्लाय
P.s. Lovwanshi
बहुत अच्छी और सामाजिक ताने बाने में बुनी हुई कहानी है । सभी पात्र सकारात्मक भूमिका में है । अंत भी सुखद ।
रिप्लाय
Sarika Gupta
nice story
रिप्लाय
Davinder Kumar
_ आप की कहानी वास्तविकता के बेहद करीब है
ramit gupta
Aap biti padh kar aankoh me aaso aaj gate
रिप्लाय
Poonam Kaparwan
bete chahe apne ho ya parai ya goad le he bete kudrat ka bahahut khubsoorat to fa h sahi education ho to be to se badhkar naam kamati h parents ke liye to naa pucheye kitna pyr dular dyte h .apne story mh har baat ka rupantarn sahi static sab do mh kiya nice .
Sjl Patel
story hearttuching.👌👌👌👌👌
रिप्लाय
Navisha Soni
मार्मिक कहानी
Mamta Upadhyay
बहुत सुन्दर रचना
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.