किन्नर माँ

मोहित शर्मा ज़हन

किन्नर माँ
(182)
पाठक संख्या − 9651
पढ़िए

सारांश

बिल्लो के घर के बाहर उसके साथी किन्नरों का समूह जमा था। बिल्लो के बाहर निकलते ही सबने उसे घेर लिया, भावुक सरोज दल का नेतृत्व कर रहा था। सरोज - “तू रूमी को क्यों पढ़ा रही है? तुझे उसकी माँ बनने का शौक चढ़ा है?” बिल्लो - “रूमी बहुत होशियार है। ग्रैजुएशन कर लिया है, अभी पुलिस अफसर का एग्जाम निकाल देगी देखना!” सरोज - “नशा किया है तूने? शादी का सीजन है, काम पे लगा इसको!”
Arshad Rasool
बेहतरीन
केवा विराश
मै जालौर(राजस्थान) से हु हमारे राजस्थान पुलिस में एक किन्नर का सलेक्शन हुआ था लेकिन उसकी जोइनिंग 4साल तक जोइनिंग नहीं हुई।आख़िर उसने क़ानूनी लड़ाई लड़ कर ड्यूटी जॉइन की। https://www.bhaskar.com/news/RAJ-OTH-MAT-latest-shahjanpur-news-073037-474708-NOR.html
Dr Pratibha Saxena
माता तो त्याग का अनूठा उदाहरण हैं
Priti Sharma
मां होने का बोध क्या नहीं करवा सकता! भावपूर्ण।
Kanta Asopa
tyag manta ki murt nishvarth bhav se kisi ko kuch de vale mhan hote hai
Rakesh Pandey
तीसरे पक्ष का पक्ष रखा आपने.
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.