काश

Arti Anand

काश
(88)
पाठक संख्या − 21738
पढ़िए

सारांश

व्यस्त ज़िन्दगी में कभी 2 खामोशी भी सुन लेना जरूरी हो जाता . पर अफ़सोस कई बार हम ऐसा नहीं करके ज़िन्दगी भर एक काश का अफ़सोस झेलते ...
Swranlata Francis
Pata nahi kitti party se in ourto ko kya milta he
मंजुबाला
बच्चों की बातें अनसुनी कर जाते है हम परिणाम जिंदगी बदल देते है बेहतरीन रचना
Varsha Kher
Parenting.... Khud ko bhulo sirf Apno ke liye
Shashi Dubey
कोई माँ एसी भी हो सकती है सोचकर शंरम आती है।
योगेश
kya kahu main mujhe samaj nahi aata dp pe agar aapka photo hai to aapki umar se bikul ki bhi andaza nahi lagta ki aap itne ache story writer ho yaar main fan hogaya aapki writing ka plz mere liye ek short film likhenge kya
Asha Pandey
Bachho k Sarah samay bitay unki bate Jarrod sune
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.