काश

Arti Anand

काश
(23)
पाठक संख्या − 1098
पढ़िए

सारांश

व्यस्त ज़िन्दगी में कभी 2 खामोशी भी सुन लेना जरूरी हो जाता . पर अफ़सोस कई बार हम ऐसा नहीं करके ज़िन्दगी भर एक काश का अफ़सोस झेलते ...
Santosh Vidyadhar Mishra
बहुत अच्छी कहानी
Nirmal Gupta
बलात्कार जैसी गम्भीर समस्या का यह एक बहुत बड़ा कारण है जो आपने बताया। बेटियों के मातापिता को बहुत सतर्क रहना चाहिए। परन्तु एक 5 साल की बच्ची ने आत्महत्या कर ली, यह बात कहानी को बहुत कमज़ोर कर गयी।
Pawan Pandey
बहुत ही अच्छा व आज के अनेक अभिभावक के लिए सबक सिखाती उत्कृष्ट रचना।
रिप्लाय
Monika Kaushik
Khna nhi chahiye lkin sach mei aajkel parents ke paas apne beccho ke liye hi time nhi bhut dukh ki baat h Really awesome story
रिप्लाय
Sk Pal Sailendra Sk
nice
रिप्लाय
Jy L
आज बच्चों को इस जटिल और वहशी दुनिया से बचाना, समझाना और सुरक्षित रखना बेहद जरूरी है
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.