काश तुम्हे रोक पाती

अभिलाष दत्ता

काश तुम्हे रोक पाती
(296)
पाठक संख्या − 22066
पढ़िए

सारांश

जिंदगी में इतना आगे बढ़ जाना , की जब बचपन के दोस्त के बारे में जानकारी मिली , तो आंसू थमने का नाम नहीं ले रहा था ।।।।।
Neha Kannojiya
bahut khubsurat.humari kahani se kuch milti julti
निःशब्द
दिल को छू गयी
Rahul Gupta
Life m yahi hota h.
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.