काश तुम्हे रोक पाती

अभिलाष दत्ता

काश तुम्हे रोक पाती
(561)
पाठक संख्या − 34548
पढ़िए

सारांश

जिंदगी में इतना आगे बढ़ जाना , की जब बचपन के दोस्त के बारे में जानकारी मिली , तो आंसू थमने का नाम नहीं ले रहा था ।।।।।
Jaiveer Singh Poonia
कहानी अच्छी लिखी है
geeta kushwaha
ऐसे बहुत से काश रह जाते हैँ हमारी जिंदगी में, जिसे हम चाहते है वो किसी और की पसंद बन जाते हैँ।
pankaj Agarwal
sadharan parantu acchi kahani
Deepak Kushwaha
kuchh adhoora SA hai , use jinda hona chahiye tha aur doobara mulakaat honi chahiye thi dono ki , jindgi ke kisi mod pr....ek lambi si kahani Hoti to aur achchha lagtA😊🙏
surendra kumar
काश वो लड़की बोल देती की उसे पसंद करती है । तो लड़का मरता नहीं बहुत बुरा हुआ यार 😥😥
R.K. Pandey
The unforgettable memory.
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.