काश ऐसा ही होता

लता शर्मा "सखी"

काश ऐसा ही होता
(473)
पाठक संख्या − 21387
पढ़िए

सारांश

ये नाम इसलिए दिया है मैंने इस कहानी को क्योंकि इसे पढ़ने के बाद हर पत्नी यही कहेगी, काश ऐसा ही होता.... सुधा उठी, आंखें मलते हुए घड़ी देखी। देखते ही घबरा गई, ओह माँ, आज तो उठने में इतनी देर हो गयी, 7 ...
Madhu Chamria
nice
रिप्लाय
j k singh
अति सुंदर।
रिप्लाय
Chanda Kumari
lovely
रिप्लाय
Sushant Mukhi
अच्छा है
रिप्लाय
Hemant MOdh
काश ऐसी प्रेरक कहानी पर आधारित अच्छी सी फिल्म बनाई जाए.. काश ! Film-Visualizer: Filmography Natioonal Magazine HOD: Filmography National Film Academy, Email: filmographyfilmacademy@gmail.com
रिप्लाय
Beenu
kash asie hota
रिप्लाय
Sjl Patel
pati patni prem ki kahani👌👌👌👌👌👌👌💐💐💐💐💐💐💐💐💐
रिप्लाय
सौरभ दबंग
बहुत ही सुंदर रचना
रिप्लाय
Vandna Solanki
शीर्षक को सार्थक करती उम्दा कहानी!!
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.