कालचक्र #ओवमुनिया

Damini

कालचक्र #ओवमुनिया
(82)
पाठक संख्या − 1285
पढ़िए

सारांश

कालचक्र मीरा शादी करके मोहित के घर आ गई। मोहित का अच्छा खासा बिजनेस था। और मीरा भी पेशे से आर्किटेक्ट थी। घर के एक हिस्से में उसने अपना आफिस बना लिया और अपना काम घर से करने लगी दोनों अपनी - अपनी ...
Sudha Ghildiyal
वर्तमान मे सभी बुद्धि जीवियों की अतिमहत्वाक्षां पर आपने करारा तमाचा मारा है ।मैं कहानी के विषय में कुछ भी कहने मे असमर्थ हूं, आपने सब कुछ इतनी सटीकता व सजीवता से कह दिया कि कहने को कुछ नहीं सिवाय वाह वाह वाह और सिर्फ वाह !!!!! बहुत बहुत बधाई व हार्दिक शुभकामनाएं...💐💐💐💐
रिप्लाय
Puja Thakur
मार्मिक रचना 🙏
रिप्लाय
Anuj Shrivastav
Sach me padhte padhte rona aajye aaisi kahani hai aaj kal paise ke samne logo ka jivan kisi ki mammta kisi ka pyar kisi ke Dil me Prem sab paise ke samne majboor ho jate hai sach kahe to ek maa se jyada pyar Apne bachcho ke prati koi nahi kar Sakta vo sab kast utha kar kaise bhi Apne bachcho Ko dukhi nahi dekh Sakti vo kya chaheti hai vo bachcho ke Khushi ke samne bhool jati hai Mera sabhi se Nivedan hai apno ka pyar kabhi khoona nahi kyuki unse jyada aapko chahene vala koi nahi milega vo bhagvaan Swaroop hote unke Bina ashirvad ke koi aage nahi badh Sakta Jai Mata Di
रिप्लाय
Neha Mishra
बेहद संवेनशील रचना है, बहुत बड़ी समस्या को दर्शाती है और बहुत कुछ सीखा जाती है आपकी रचना 🙏🙏👌
रिप्लाय
Beena Awasthi
दामिनी जी आज के दौर में हम एक अंधी दौड़ में शामिल होकर भूल जाते हैं कि पैसा बहुत कुछ तो है लेकिन सब कुछ नहीं और बच्चों की क्या गलती उन्होंने तो शुरू से ही संवेदना हीन वातावरण देखा है । उन्होंने अपने माता पिता को अपने या दादा दादी के साथ बैठते, बात करते या ख्याल रखते देखा ही नहीं तो वही सीखा जो उन्होंने देखा और पाया है। यह तो अंत में पता चलता है कि हमने कितना मूल्यवान खो दिया है।
रिप्लाय
Balvinder Singh
बहुत अच्छी कहानी
रिप्लाय
Rajni Gupta
👌👌👌
रिप्लाय
प्रीत
दामिनी जी...आपने अत्यंत ही मार्मिक और संवेदनशील कथा लिखी इसके लिए साधुवाद...रिश्तों में वो अपनापन नही रहा.. हर इंसान ज़ोर शोर से रिश्तों को दरकिनार कर सिर्फ पैसे के पीछे दौड़ रहा है। इन सब में आत्मीयता कही खो गई है। कथा मार्मिक है परंतु आपने इसका अंत सुखद रूप में किया।👌👏👏👏👏
रिप्लाय
Pritika Tripathi
bahut deep thinking or msg deti aapki ye rachna.... behtreen rachna mam...👌👌👌👌
रिप्लाय
JS Naphray
bhout he sunder racna ye aajkal ki sachi he
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.