कहीं रूठना मनाना चल रहा है

अंजू मोटवानी

कहीं रूठना मनाना चल रहा है
(47)
पाठक संख्या − 1179
पढ़िए
Om Shankar
शिक्षित समाज विकसित हो गया है फिर ये क्यों पागलखाना चल रहा है? साधुवाद!
क्षितिज मिश्रा
बहुत खूबसूरत रचना
ओंकार नाथ तिवारी
समाज के हर पहलू को स्पर्श करती यह रचना काबिले तारीफ है ।
बृजभूषण खरे
बहुत अच्छा लिखा आपने.
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.