कहानी:सिर्फ प्यार, नो शादी(1)

Vijaykant Verma

कहानी:सिर्फ प्यार, नो शादी(1)
(64)
पाठक संख्या − 16820
पढ़िए

सारांश

कहानी~सिर्फ प्यार, नो शादी ~~~~~~~~~~~~~~~ शीना ने आज पंद्रहवें साल में प्रवेश किया था। इस कहानी की शुरुआत यहीं से होती है। अपने पंद्रहवें जन्मदिन पर उसकी खुशी का ठिकाना न था। जवानी ने उसके जिस्म में ...
Sonika Shukla
👌👌👌👌
रिप्लाय
Aliya Abbasi
nice
रिप्लाय
Pradeep jain Chandaliya
सच्चाई को इंगित करती आपकी कहानी
रिप्लाय
Puja Thakur
आज की युवा पीढ़ी की सच्चाई
रिप्लाय
Vijaya Pareek
sorry ...not up to the standard...mujhe pasand nahi aayi
Umesh Kumar
ye kya h, different, kuch kuch famous novel Lolita ka version h
रिप्लाय
प्रतीक अवस्थी
आज की युवा पीढ़ी की सोच बया करती ये कहानी है और ऐसा इस कारण हो रहा है कि हर किसी के पास मोबाइल है और मोबाइल मे पुरी दुनिया है। बच्चे बहुत कम उम्र में ही सेक्स के बारे में जान रहें हैं और उसी का नतिजा शीना रघु और शिब्बू की ये सोच है।कहानीकार ने आज के कुछ युवा पीढ़ी की सोच को इस कहानी मे बया किया है लेकिन ऐसे युवाओ की सोच को कतई सही नही ठहराया जा सकता है।
रिप्लाय
AJAY THAKKAR
DR. KO BOLO SAB KO YAHI SHIKSHA DEY SPL LADIES KO JIN KAY NAKHREY HI KHATAM NAHI HOTEY
रिप्लाय
Pramesh Kumar
aaj k janrisan k aadhar pe hai ye kahani
रिप्लाय
PRABHU MUDGAL
आज के समय की कहानी
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.