कहानी:पापा क्यों रोये ?

हेम चन्द्र जोशी

कहानी:पापा क्यों रोये ?
(14)
पाठक संख्या − 365
पढ़िए

सारांश

कभी कभी नासमझ बच्चे भी समझदार हो जाते हैं जब उनको अपनी माँ बाप की मजबूरी समझ में आती है।
Puja Thakur
आँखें नम हो गई । सुन्दर कहानी ।
रिप्लाय
Chandan Joshi
शानदार 🙏🙏
रिप्लाय
Damini
बहुत ही सुंदर भावनाओं का परिचय दिया है आपने
S Mahendra Suman
सर जी कहानी पड़ते हुए आँखों से आंसू आ गए बहुत अच्छा लिखा है
रिप्लाय
Amit Saini
सर सुन्दर रचना
रिप्लाय
Ghanshyam Kasana
superbbbbbb 👌
रिप्लाय
Dr. Santosh Chahar
दिल को छूती रचना।
रिप्लाय
सरोज वर्मा
very very nice story, sir दिल छू गई
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.