कहानी:पापा क्यों रोये ?

हेम चन्द्र जोशी

कहानी:पापा क्यों रोये ?
(16)
पाठक संख्या − 473
पढ़िए

सारांश

कभी कभी नासमझ बच्चे भी समझदार हो जाते हैं जब उनको अपनी माँ बाप की मजबूरी समझ में आती है।
Sanjeev Garg
heart touching
रिप्लाय
Arohi Singh
bhut sundar kvita prem shradha se bhari hui. Mere bhi aansu nikal aaye
रिप्लाय
Puja Thakur
आँखें नम हो गई । सुन्दर कहानी ।
रिप्लाय
Chandan Joshi
शानदार 🙏🙏
रिप्लाय
Damini
बहुत ही सुंदर भावनाओं का परिचय दिया है आपने
S Mahendra Suman
सर जी कहानी पड़ते हुए आँखों से आंसू आ गए बहुत अच्छा लिखा है
रिप्लाय
Amit Saini
सर सुन्दर रचना
रिप्लाय
Ghanshyam Kasana
superbbbbbb 👌
रिप्लाय
Dr. Santosh Chahar
दिल को छूती रचना।
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.