कविता

विकास कुमार

कविता
(62)
पाठक संख्या − 957
पढ़िए

सारांश

आंखों में एक बीमारी सी रहती है नजरों में तस्वीर पुरानी रहती है| अक्सर छत पर मिलने आ ही जाती थी उन यादों की एक कहानी रहती है। धीरे धीरे साँसों से जब सांसे मिलती थीं उन यादों की कारस्तानी रहती है| आकर ...
Mamta Singh
सराहनीय
काव्याक्षरा
प्रेम की सौगात है! हाथों में जब हाथ है! 👌
शशांक शर्मा
बहुत सुंदर कविता ।। एक बार मेरी कविताओं पर भी नजर डालें
Ajay
समाज मे जिन्होंने दहेज प्रथा शुरू की है...तोड़े से लोभी लोगो की वजह से आम आदमी अपनी बेटी को बोझ समझता है...
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.