कल की रात

Deepak Chourasia

कल की रात
(62)
पाठक संख्या − 5540
पढ़िए

सारांश

ये कहानी नही एक सच्ची घटना है जो मैं एक कहानी के रूप में आपके सामने लाया हूँ..!! बात कल रात की है कल रात के  घड़ी में करीब12 बजे रहे होंगे। गर्मी बहुत थी, लाइट भी नही थी और मुझे नींद भी नही आ रही थी। ...
Rudransh Singh
ye ek ghatna hai pr ye sahi hai bhasha ashudh hai...pr as a person u took a right decision.
Khushi Tripathi
very good...nice job 👍
रिप्लाय
Nirupa Verma
nice sirji,,Aapne bhut hi Sundar aur behtarin Kam kiye h,,,Mera aapko Naman...
रिप्लाय
Naresh Kumar
bahut accha kiya aapne sir.
रिप्लाय
Amritpal Brar
you have done right job parmatma un pyar Marne walon ko hamesha khush rakhe aur wo pyar bhari zindgi bateet karen
रिप्लाय
Sapna Sharma
आपने सही किया पर आपको अपने लेखन पर और मेहनत करने की जरूरत है वाक्य शुद्ध नहीं थे भाषा में बहुत गलतियां थी
रिप्लाय
Hari Agarwal
beautiful
रिप्लाय
Ritu Singh
aap ne bilkul shi kiya
रिप्लाय
MAHANAND SINGH
आपनें सही किया !
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.