कलयुग की सावित्री

नेहा अग्रवाल नेह

कलयुग की सावित्री
(287)
पाठक संख्या − 36623
पढ़िए

सारांश

अस्पताल के कमरे के बाहर चहलकदमी करते लोगों को देख कर कोई भी बता सकता था ।कि वो प्रतीक्षा कर रहे है अपने परीवार में आने वाले नये मेहमान की । तभी कमरे से बाहर आती डाक्टर को देखकर सब लपक कर उनके पास ...
Shaline Gupta
कोई मकसद नही दिखा।बाकी कहानी ठीक है👍👍👌👌💐💐😊😊
Ragini Singh
prayas achha hai pd thodi aur sudhar ki gunjaish hai.
Puran Gupta
end kharab tha but awesome
Bhaiya Sushil Singh
कहानीअच्छी थी।
Sahar Saikh
nice bt asa hona ni chahye ek Bhai dusre Bhai se kase Jalan kr skta h
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.