कर्मवीर महाराणा प्रताप

गणेश शंकर विद्यार्थी

कर्मवीर महाराणा प्रताप
(119)
पाठक संख्या − 5979
पढ़िए

सारांश

'बलिदान केवल बलिदान' - चित्‍तौड़ की स्‍वतंत्रता देवी बलिदान चाहती है। बादल उमड़े थे, बिजलियाँ कड़की थीं और घोर अंधकार छा गया था। अपवित्रता पवित्रता पर कब्‍जा करना चाहती थी और अनाचार आचार और व्‍यवहार ...
Pratiksha Singh
राणा प्रताप का जीवन आदर्श है।
Mithilesh Kumari
राणाजी की गाथा का भावनात्मक अभिव्यक्ति अप्रतिम।
पुष्पा हरि वैष्णव
बहुत अच्छा लगा ये लेख पढकर।महाराणा प्रताप एक सच्चे सपूत थे भारत माता के........
Balram Singh
maharana pratap amar rahe
Premsing Raul
maharana pratap ji ko vandan . swabhiman amar rahe
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.