कब तक चलेगा यह सब ?

अज्ञात

कब तक चलेगा यह सब ?
(129)
पाठक संख्या − 30453
पढ़िए

सारांश

"एक घंटे से बाथरूम में हो तुम निशा.. कर क्या रही हो?" माँ ने चिल्लाते हुए कहा। रोहित का मन रखने के लिए निशा स्कर्ट पहनने को राजी हुई थी, जो रोहित ने उसको खरीद कर दिया था। लेकिन पहनती कैसे, कभी भी ...
Deepti Arora
hahaha... ek hasya kahani...
Rahul N. markam
Chlo unka pyar mukkmal to hua
Ritu singh
incomplete in the end, what's the hurry?
Meena Bhatt
अग्यात जी,अग्यात जी क्या लिखते हो।कुछ समझ नहीं आता बेसिर पेर कि कहानी।प्रतिलिपि में केसे छा गए आप धन्यवाद आप का।
Dipti Biswas
प्यार की जीत हुई
amit
kya h ye matlab kuchh bhi
Mamta Jha
kahani ko pura to likha kro
Ashutosh Haritwal
कुछ लिखना नही आता तो मत लिखा करो
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.