कंचन देवी

यश गोयल

कंचन देवी
(84)
पाठक संख्या − 12339
पढ़िए

सारांश

तपती दुपहरी। पत्ता भी नहीं हिल रहा था। सूरज की किरणें शरीर की त्वचा को भेद रहीं थी। गला सूख रहा था।आसपास कोई पेड़ या कोई छाया नजर नहीं आ रही थी। डांभर पिघल रहा था। उसमें जूता धंसा-जा रहा था। ऐड़ी ...
अरविन्द कुमार पुरोहित
बहुतबढ़िया भाई यश गोयल| बॉटनी वाले ही हो न/ दुनियागोल निकली/ अरविन्द
Pravin Sharma
राजनीति
Snehlata Gupta
इंसान कितना गिर सकता हैं कुछ पाने के लिए
choturam kumawat
द्बंग कहानी है. पोलिटिक्स पर प्रहार है. 
Abhishek Singhal
राजनीति का एक कटु सत्य...
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.