और

राजेश रस्तोगी

और
(34)
पाठक संख्या − 14372
पढ़िए

सारांश

काश ! . .....वह जान पाती कि वह उसे विश्व में सबसे अधिक प्यार करता है , और ....... (अव्यक्त प्यार का अन्तर्द्वन्दन....)
Shalini Kabra
bhut hi uttam krati kintu bhasha atyant klisht h aapki jo sadharan jan to shayad hi samjh payege
Divya Gurjar
Such kahu to story heart touching thi.. But words bhot though h
Manju Gupta
nice
रिप्लाय
atulpatel
ऐ धर्म अधर्म हमें खुल के जीने से कितना रोकते हैं
रिप्लाय
Sheepja Bajpai Tiwari
shayad thoda maza aata ager Hindi thodi easy hoti
Priyanka Agarwal
अति सुन्दर रचना
रिप्लाय
Mahesh Ranchhod Sathwara
good
रिप्लाय
Tahira Rizvi
Itni kathin hindi r bewaqufi ki kahani
रिप्लाय
मुद्रिका गुप्ता
आपकी रचनाशैली में प्रेमचंद साहित्य की झलक मिलती है। बधाई
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.