औरत और इज़्जत

शुभम सिंह

औरत और इज़्जत
(47)
पाठक संख्या − 2179
पढ़िए

सारांश

एक प्रसंग और जीवन की सच्ची घटित घटना आप सभी के समक्ष प्रस्तुत करता हूँ ,,, ?
Vikas Pal
nycc story with good moral
Sonal Tandon
एक भाई होने का फर्ज बखूबी निभायाआपने।
Navisha Soni
बहुत बढ़िया विश्लेषण किया है बहुत बेहतरीन लिखा है भाई
Pawan Omar
शब्द नही है ...... लाजवाब👌👌👌
Usha Sahu
bahut achhi kahani h. aapne bahut hi sarahniya kaam kiya hai
Rani kumari
👍👍👍👌👌👌
नटवर बारोट ( हिंदम्)
,,, बहुत सुंदर चरीत्र की परिभाषा आपने कहानी में कह दी शाबाश बन्धु ,,, आगे बढ़ा
नेहा यादव
तुझपे नाज है मेरे भाई, ऐसी घटना और उसे अपने तरीके से ढाल दिया आपने,, और नकारात्मक सोच को सकारात्मक प्रभाव डाल के बेहतरीन अभिनय के रूप में समाजिक रूढ़ियों में सराबोर कर दिया।।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.